Home Sports 51 साल में पहली बार! स्मृति मंधाना, हरमनप्रीत कौर की चमक से...

51 साल में पहली बार! स्मृति मंधाना, हरमनप्रीत कौर की चमक से भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका ने दर्ज की ऐतिहासिक उपलब्धि | क्रिकेट समाचार

9
0
51 साल में पहली बार! स्मृति मंधाना, हरमनप्रीत कौर की चमक से भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका ने दर्ज की ऐतिहासिक उपलब्धि | क्रिकेट समाचार






कप्तान हरमनप्रीत कौर और उसके डिप्टी स्मृति मंधाना एक-एक शतक और तेज गेंदबाज पूजा वस्त्रकार बुधवार को बेंगलुरु के एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में भारतीय महिला टीम ने दक्षिण अफ्रीका को चार रन से हराकर तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 की अजेय बढ़त बना ली।

मंधाना ने 120 गेंदों पर 136 रनों की पारी खेली, जो लगातार दूसरे मैच में शतक था, और हरमनप्रीत कौर के साथ तीसरे विकेट के लिए 171 रनों की साझेदारी की, जिन्होंने 88 गेंदों पर नाबाद 103 रनों की पारी खेली, जिससे भारत ने 50 ओवरों में 325/3 का विशाल स्कोर बनाया। शेफाली वर्मा (20), दयालन हेमलता (24) और ऋचा घोष (नाबाद 25) भारत के लिए अन्य स्कोरर थे, जिन्होंने दक्षिण अफ्रीका द्वारा पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किए जाने के बाद मिले अवसर का भरपूर फायदा उठाया।

दक्षिण अफ्रीका कप्तान लौरा वोल्वार्ड्ट एक गेंद पर 135 रन बनाए जबकि मैरिज़ान कप्प 94 गेंदों में 114 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को मुकाबले में बनाए रखा। लेकिन मेहमान टीम आखिरी कुछ ओवरों में हार गई और 50 ओवरों में 321/6 पर सिमट गई, जिससे भारत ने मैच जीत लिया। यह मैच आईसीसी महिला चैंपियनशिप का हिस्सा है। 1973 में महिला वनडे की शुरुआत के बाद से यह पहली बार है कि एक मैच में चार बल्लेबाजों ने शतक बनाया है।

दक्षिण अफ्रीका एक समय 67/3 रन बनाकर संघर्ष कर रहा था, लेकिन इसके बाद काप और वोल्वार्ड्ट ने शानदार साझेदारी करके न केवल पारी को संभाला, बल्कि उच्च स्कोर वाले मुकाबले में जीत की उम्मीद भी जगाई।

326 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका ने तंजीम ब्रिट्स (5), एनेके बॉश (15) और सुने लुस (12) जल्दी आउट हो गए और 15वें ओवर में 67/3 पर संघर्ष कर रहे थे, इससे पहले किप और वोल्वार्ड्ट ने चौथे विकेट के लिए 184 रन की साझेदारी की और टीम को 251 पर पहुंचाया, जब कप्प आउट हो गए। 34 वर्षीय कप्प ने 11 चौके और तीन छक्के लगाए और अपनी कप्तान के साथ मिलकर टीम को जीत दिलाई। कप्प ने 53 गेंदों पर अपना अर्धशतक और 85 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया, जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ा।

वस्त्राकर की गेंद पर उनका कैच छूटा दीप्ति शर्मावोलवार्ड्ट, जिन्होंने 69 गेंदों पर अपना अर्धशतक और 119 गेंदों पर शतक पूरा किया, ने दक्षिण अफ्रीका को मैच के अंतिम चरण में बनाए रखा, जहां उन्हें अंतिम 12 गेंदों पर 23 रन की जरूरत थी।

नादिन डी क्लार्क एक छक्का मारा अरुंधति रेड्डी दक्षिण अफ्रीका ने 49वें ओवर में आखिरी गेंद पर 12 रन बनाए। वस्त्रकार की आखिरी छह गेंदों पर उन्हें 11 रन चाहिए थे।

भारतीय तेज गेंदबाज ने डी क्लार्क की गेंद पर चौका लगने के बावजूद अपना संयम बनाए रखा और चार गेंदों पर 6 रन का स्कोर बनाया। मैच की तीसरी गेंद पर उन्होंने नादिन को आउट किया और लॉन्ग-ऑन पर अरुंधति को आसान कैच थमा दिया। वस्त्रकार ने फिर नोंडुमिसो शंगासे को कप्तान हरमनप्रीत के हाथों कैच कराकर निर्णायक झटका दिया। मैच की आखिरी गेंद पर दक्षिण अफ्रीका को छक्के की जरूरत थी, लेकिन वोल्वार्ड्ट केवल दो रन ही बना सके और भारत ने मैच चार रन से जीत लिया।

वस्त्रकार ने 54 रन देकर 2 विकेट लिए, जबकि दीप्ति शर्मा ने 10 ओवर में 56 रन देकर 2 विकेट लिए। स्मृति मंधाना ने 13 रन देकर 1 विकेट लेकर शतकीय पारी खेली।

इससे पहले सलामी बल्लेबाज मंधाना ने पूर्व कप्तान की बराबरी करके महिला क्रिकेट के इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया। मिताली राजमहिला वनडे में सर्वाधिक शतकों का सर्वकालिक भारतीय रिकॉर्ड बनाने वाली मंधाना ने 136 रनों की शानदार पारी खेलकर दिग्गज राज की बराबरी कर ली।

श्रृंखला के पहले मैच में शतक बनाने के बाद, जब उन्होंने 117 रन बनाए, इस तेजतर्रार बाएं हाथ की बल्लेबाज ने अपना शानदार फॉर्म जारी रखा – उनके लगातार शतकों ने उन्हें एकदिवसीय क्रिकेट में यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बना दिया।

मैच की शुरुआत मंधाना ने सतर्कता के साथ की, जिन्हें पहले पावरप्ले के दौरान दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों ने शांत रखा। भारत ने ओपनर शेफाली वर्मा को जल्दी खो दिया, जिससे मंधाना को पारी की कमान संभालनी पड़ी। उन्होंने अपनी पारी को सावधानीपूर्वक आगे बढ़ाया, 40 गेंदों पर 19 रन बनाए और फिर गेंदबाजों पर हावी होने के लिए गियर बदल दिया। उनके संयमित दृष्टिकोण ने उन्हें सिर्फ़ 103 गेंदों में अपना शतक पूरा करने और अंततः 120 गेंदों पर 136 रन बनाने का मौका दिया।

मंधाना की पारी में 18 चौके और दो छक्के शामिल थे, जिससे पता चलता है कि वह रन बनाने और तेजी से रन बनाने की क्षमता रखती हैं। उनके प्रयासों से भारत ने 40वें ओवर में ही 200 रन का आंकड़ा पार कर लिया और एक मजबूत स्कोर के लिए मजबूत नींव रखी।

मंधाना का साथ देने के लिए दूसरी तरफ कप्तान हरमनप्रीत कौर भी मौजूद थीं, जिन्होंने 87 गेंदों में शतक जड़ा। इन दोनों की साझेदारी ने गति बनाए रखने और दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों पर दबाव बनाने में अहम भूमिका निभाई।

हालांकि, मंधाना 46वें ओवर में 129 गेंदों पर 136 रन बनाकर आउट हो गईं। नॉनकुलुलेको म्लाबा कवर क्षेत्र पर.

संक्षिप्त स्कोर:

भारतीय महिला टीम ने 50 ओवर में 325/3 (स्मृति मंधाना 136, हरमनप्रीत कौर 103 नाबाद; नॉनकुलुलेको म्लाबा 2-51) के स्कोर से दक्षिण अफ्रीका को 50 ओवर में 321/6 (लौरा वोल्वार्ड्ट 135, मारिजाने काप 114; पूका वस्त्राकर 2-54, दीप्ति शर्मा 2-56) के स्कोर से चार रन से हराया।

इस लेख में उल्लिखित विषय



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here