Home Health दिल्ली की वायु गुणवत्ता गिरी; प्रदूषण के कारण बीमार पड़ने से...

दिल्ली की वायु गुणवत्ता गिरी; प्रदूषण के कारण बीमार पड़ने से बचने के 12 तरीके

19
0


तापमान में गिरावट के साथ, दिल्ली की वायु गुणवत्ता पिछले कुछ दिनों से खराब हो रही है। शुक्रवार सुबह हवा की गुणवत्ता घटकर ‘खराब’ श्रेणी में पहुंच गई। साल के इस समय में जब पारा नीचे आता है तो प्रदूषण का स्तर बढ़ना सामान्य बात है। बढ़ते प्रदूषण के पीछे उत्तर भारत में खेतों में लगने वाली आग भी एक कारण है। प्रदूषण स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है और श्वसन संक्रमण, हृदय रोग, स्ट्रोक और फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है। गले में सूजन, अस्थमा और कंजेशन जैसी स्थितियों से बचने के लिए लोगों को वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बचना चाहिए। (यह भी पढ़ें: दिल्ली की वायु गुणवत्ता गिरकर ‘खराब’ श्रेणी में पहुंची; जीआरएपी उपाय लागू होने की संभावना)

तेजी से प्रदूषित हो रही दुनिया में सक्रिय और सूचित रहना आपके कल्याण की रक्षा करने की कुंजी है (फ्रीपिक)

निदेशक एवं एचओडी डॉ. रवि शेखर झा कहते हैं, “आज की दुनिया में, वायु प्रदूषण एक बढ़ती हुई चिंता का विषय बन गया है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण खतरा पैदा कर रहा है। वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर के बीच अपने स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए, कुछ प्रभावी रणनीतियों को अपनाना आवश्यक है।” , पल्मोनोलॉजी, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, फ़रीदाबाद।

1. वायु गुणवत्ता की निगरानी करें

वायु गुणवत्ता ऐप्स या वेबसाइटों का उपयोग करके स्थानीय वायु गुणवत्ता स्तरों के बारे में सूचित रहें। अधिक प्रदूषण वाले दिनों में बाहरी गतिविधियों से बचें।

2. एयर प्यूरीफायर का प्रयोग करें

अपने घर और कार्यालय के लिए उच्च गुणवत्ता वाले वायु शोधक में निवेश करें। ये उपकरण घर के अंदर की हवा से प्रदूषकों को हटाने में मदद कर सकते हैं।

3. मास्क पहनें

बाहर निकलते समय, विशेष रूप से अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों में, हानिकारक कणों को फ़िल्टर करने के लिए N95 या समकक्ष मास्क पहनें।

4. प्रदूषण के चरम घंटों के दौरान घर के अंदर ही रहें

प्रदूषण का स्तर अक्सर सुबह और शाम के समय सबसे अधिक होता है। इस दौरान घर के अंदर ही रहने की कोशिश करें।

5. उचित वेंटिलेशन

अपने घर में अच्छा वेंटिलेशन सुनिश्चित करें। घर के अंदर हवा के संचार को बेहतर बनाने के लिए जब बाहरी हवा की गुणवत्ता बेहतर हो तो खिड़कियाँ खोलें।

6. घर के अंदर वायु शुद्ध करने वाले पौधे लगाएं

मकड़ी के पौधे और पीस लिली जैसे कुछ इनडोर पौधे घर के अंदर हवा की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

7. हाइड्रेटेड रहें

भरपूर पानी पीने से आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

8. आहार विकल्प

अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और प्रदूषण के प्रभावों से निपटने के लिए फल और सब्जियों जैसे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

9. नियमित व्यायाम

अपने फेफड़ों और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न रहें। जब बाहरी हवा की गुणवत्ता खराब हो तो इनडोर व्यायाम का विकल्प चुनें।

10. धुएँ के संपर्क में आना कम करें

धूम्रपान से बचें और सेकेंड-हैंड धुएं के संपर्क में आने से बचें, जो श्वसन संबंधी समस्याओं को बढ़ा सकता है।

11. चिकित्सीय सलाह लें

यदि आप वायु प्रदूषण के कारण लगातार श्वसन संबंधी समस्याओं या एलर्जी का अनुभव करते हैं, तो मार्गदर्शन के लिए किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।

12. परिवर्तन के पक्षधर

वायु प्रदूषण के मूल कारणों को दूर करने के लिए स्वच्छ वायु नीतियों की वकालत करने वाले स्थानीय पर्यावरण समूहों या पहलों में शामिल हों।

डॉ. कहते हैं, “हालांकि बढ़ते वायु प्रदूषण के प्रभाव से पूरी तरह बचना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन इन रणनीतियों को अपनाने से आपके स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है। तेजी से प्रदूषित हो रही दुनिया में सक्रिय और सूचित रहना आपके कल्याण की रक्षा करने की कुंजी है।” झा.

“रोमांचक समाचार! हिंदुस्तान टाइम्स अब व्हाट्सएप चैनल पर है लिंक पर क्लिक करके आज ही सदस्यता लें और नवीनतम समाचारों से अपडेट रहें!” यहाँ क्लिक करें!



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here